This site is under development, some of the functionalities may not work properly.
Anonymous
in Family Law Civil Law
Asked July 09, 2017

Distribution of Ancestral Property

  • 2 Answers
  • 919 Views

महोदय नमस्कार मैं अहमद जिला देवरिया उत्तर परदेस से हू।मेरे पिताजी के पिता जी के नाम पर एक पुश्तैनी जमीन थी जिसका बंटवारा 37 साल पहले मेरे पिता और उनके छोटे भाई ने आपसी रजामंदी से कर ली थी।मेरे पिता ने अपने हिस्से के 15*40स्क्वायर फुट के प्लाट पर 37 साल पहले ही पक्का मकान बनवा लिया कितु उनके भाई ने अपने हिस्से के 15*40 पर कोई निरमाण नहीं करवाया।अब मेरे पिता उनके भाई एवं भाई की पत्नी तीनों की मृत्यु हो चुकी है।मेरी माँ जीवित और स्वस्थ है। अभी तक उस पुश्तैनी जमीन के खसरे मे पिता के पिताजी का ही नाम दर्ज है,लेकिन मकान के पिछले 37 सालों की टैक्स पावती,37 साल पुरानी मकान की नंबर प्लेट की पावती मे भी पिताजी का ही नाम है।पिता की मृत्यु के बाद घर का जल कर/बिजली बिल मेरे ही नाम से आ रहा।मेरे परिवार के सद्स्यो का नाम भी राशन कारड मे है तथा सभी के जाति/निवास पत्र भी बने है।पिताजी के मकान का नगर निगम टाउन एरिया से स्वीकृत नक्शा भी पिताजी के नाम पर है। अब विवाद का विषय यह है कि मेरे पिता के भाई का इकलौता पुत्र 37 साल पहले हुए बंटवारे को मान नही रहा उसका कहना है कि जमीन के खसरे मे उसके पिता के पिता का नाम है तथा बंटवारे की कोई बात नही लिखी।अब वह छल कप मारपीट पर उतारू है मकान और उसके पीछे मौजूद उसके खुद के प्लाट का बंटवारा करने को कह रहा।मैने उससे कहा कि यदि 37 साल पहले बंटवारा नही हुआ होता तो तुम्हारे पिताजी क्या यह मकान बनाने देते,अपने भाई पर केस न कर दिये होते।लेकिन वह नही मान रहा और न ही मुझपर बंटवारे विवाद पर कोर्ट केस कर रहा क्यों कि वह जानता है कि उसका मकान मे कोई हक नहीं, वह यही कह रहा कि अपना मकान हमको बेच दो या आधा हिस्सा दो,नहीं तो झूठे केस मे फंसाकर सबको जेल करवा देगे। महोदय इन परिस्थितियो में मुझे क्या कदम उठाना चाहिये। इस समय मैं मध्यप्रदेश मे नौकरी कर रहा हू, मेरा परिवार भी साथ में है और गांव के मकान में मेरा ही ताला लगा है।किस तरह से मकान का खसरा अपने नाम से बनवा सकता हू जिस्से कि भविष्य मे कभी उसे बेच सकूँ। क्या चाचा का पुत्र मेरे पिता का आधा मकान हङप लेगा?? क्या मेरे पास मौजूद डाक्युमेंट से मेरे नाम से खसरा बन जाएगा?? कृपया उचित सलाह दीजिए मै क्या करूं?

Answers 2

as per law any document which is 30 yer old is presumed to be valid and no objection can be raised against it.

since the property divided was 37 year old then that document is valid proof of the property division. also, all the documents are in your and your father's name, i dont think that even if your brother files a case it will not hold any valid ground. you are the rightfull owner. as a precaution you can file a complaint agianst your brother in the police station alleging harasment and threating.

Agree Comment 1 Agree almost 4 years ago

As per the Hindu Succession Act, 1956, any ancestral property is to be divided in an equitable manner as the son of the owner or, the son’s son of the owner shall have the legal right to share the property. Apart from this, the best way to transfer property into your name would be to start proceedings for mutation of the property to ensure the property is registered in your name. In order to this, you will require certain documents such as, death certificate of your father and grandfather, ration card to show you are the son of your father, property tax receipts paid etc. However in this case you will also require an NOC from your cousin brother. In case the matter moves to the court, you can file for application of Section 8 of the Hindu Succession Act, 1956 which provides that the property of any person dying intestate, i.e., without a will, shall be divided in the manner as provided under the Act.

Agree Comment 0 Agrees almost 4 years ago

Please Login or Register to Submit Answer

Directory ads
Need to talk to a lawyer?

Book a phone consultation with a top-rated lawyer on Lawfarm.